वास्‍तुकला एवं नियोजन समूह वास्‍तुकला, शहरी एवं ग्रामीण नियोजन, लागत प्रभावी एवं वहनीय आवास के क्षेत्रों में शोध एवं विकास कार्यों में संलिप्त है ।  वर्तमान में ऊर्जा दक्ष एवं ग्रीन बिल्‍डिंग्‍स तथा औद्योगीकीकृत बिल्‍डिंग व्‍यवस्‍था पर समूह के कार्य केन्‍द्रित हैं ।  आश्रय नियोजन, शिक्षा एवं स्‍वास्‍थ्‍य देख-रेख बिल्‍डिंग्‍स तथा ग्रामीण बिल्‍डिंग्स एवं पर्यावरण समूह के मुख्‍य उप कार्य क्षेत्र हैं।

अनुसंधान एवं विकास के केन्‍द्र में मुख्‍य क्षेत्र 

  • ग्रीन एवं ऊर्जा दक्ष बिल्‍डिंग्‍स

चूँकि भवनों में ऊर्जा की सारभूत मात्रा की खपत होती है इसलिए ऊर्जा दक्षता की एकीकृत पद्धति वर्तमान के ऊर्जा संकट की आवश्‍यक मॉंग है । अत: वर्तमान परिदृश्‍य में पर्यावरण संरक्षण एवं भवनों की ऊर्जा दक्षता मुख्‍य रूप से चिंतनीय हैं ।  पर्यावरण हितैषी एवं ऊर्जा दक्ष बिल्‍डिंग्‍स और ग्रीन बिल्‍डिंग्‍स के मुख्‍य लक्षणों में योगदान करने वाले निम्‍नलिखित अभिकल्‍प पैरामीटर विचारणीय हैं :

  1. स्‍थल नियोजन
  2. बिल्‍डिंग आवरण अभिकल्‍प
  3. बिल्‍डिंग सिस्‍टम अभिकल्‍प : ऊष्‍मन, संवातन एवं वातानुकूलन, प्रकाश व्‍यवस्‍था, नलसाज़ीकरण, विद्युत व्‍यवस्‍था एवं जल ऊष्‍मन
  4. स्‍थल पर ऊर्जा उत्‍पन्‍न करने के अक्षय ऊर्जा स्रोतों का अनुकूलन
  5. जल एवं अपशिष्‍ट प्रबन्‍धन
  6. पर्यावरणीय अनुकूलता की दृष्‍टि से धारणीय सामग्रियों का चयन
  7. आंतरिक परिवेश की गुणवत्‍ता
  8. परिदृश्‍यों एवं स्‍थलीय दशाओं को न्‍यूनतम न्‍यूनतम खलल
  9. पुनर्चक्रित एवं पर्यावरणीय हितैषी निर्माण सामग्रियों का उपयोग
  10. अविषैले एवं पुनर्चक्रित / पुन:चक्रण योग्‍य सामगियों का उपयोग
  11. जल एवं जल पुनर्चक्रण का प्रभावी उपयोग
  12. ऊर्जा दक्ष एवं पर्यावरण मित्रवत् उपकरणों का उपयोग
  13. अक्षय ऊर्जा का उपयोग
  14. मानव स्‍वास्‍थ्‍य एवं आराम के लि आंतरिक वायु की गुणवत्‍ता
  15. प्रभवी नियन्‍त्रण एवं बिल्‍डिंग प्रबंधन सिस्‍टम्स
  16. औद्योगीकृत बिल्‍डिंग सिस्‍टम्‍स
  17. लागत प्रभावी एवं वहनीय आवास
  18. बिल्‍डिंग्‍स में सौर अनुप्रयोग

अनुसंधान एवं विकास की मुख्‍य गतिविधियां

  • मानव बस्‍तियों के लिए स्‍थान के आदर्शों एवं मानकों का विकास
  • आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए लागत प्रभावी प्रौद्योगिकियों का विकास
  • शिक्षण एवं स्‍वास्‍थ्‍य देख-रेख के भवनों के लिए स्‍थान के आदर्शों एवं मानकों का विकास
  • भवनों में कॉंच के उपयोग हेतु दिशा-निर्देशों, उप नियमों कार्य-प्रणाली संहिता का विकास
  • दाय भवनों के परिरक्षण, पनरुद्धार, संरक्षण के डेटाबेस का विकास
  • विकलांगों के लिए दिशा-निर्देशों का विकास
  • न्‍यून एवं मध्‍यम पटाव की संरचनाओं के लिए औद्योगीकृत बिल्‍डिंग व्‍यवस्‍थाओं का विकास
  • आपदा प्रभावी क्षेत्रों के लिए तात्‍कालिक, अस्‍थायी एवं स्‍थायी आश्रयों का अभिकल्‍प एवं विकास

विकासात्‍मक परियोजनाएं – आश्रय नियोजन

  • विविध प्रकार के आवासों, आधारभूत संरचना सुविधाओं, शॉपिंग सेंटर एवं स्‍कूलो आदि के अभिकल्‍प सहित 15000 जनसंख्‍या वाली मथुरा रिफाइनरी टाउनशिप का नियोजन एवं अभिकल्‍प
  • आवासिय एवं प्रशासनिक सुविधाओं वाले बीएचईएल, हरिद्वार के केन्‍द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल का आवासिय कॉम्‍पलैक्‍स
  • कार्यालय एवं आवासिय सुविधाओं वाला सीएसआईआर कॉम्‍पलैक्‍स पालमपुर (हिमाचल प्रदेश)
  • निदेशक बंगला, स्‍टाफ आवासों तथा अतिथि-गृह वाला एन आई वी एच कॉम्‍पलैक्‍स, देहरादून
  • दिल्‍ली पब्‍लिक स्‍कूल, मथुरा रिफाइनरी टाउनशिप, मथुरा का अभिकल्‍प
  • प्रशासनिक भवन सहित विभिन्‍न प्रकार के आवासों, कमाण्‍डेंट आवास एवं हॉस्‍टल वाले बहादुरगढ़ स्‍थित सी आई एस एफ कॉम्‍प्‍लैक्‍स, रिफाइनरी स्‍थल, मथुरा, फेज़ । एण्‍ड ।। का नियोजन एवं अभिकल्‍प
  • मथुरा रिफाइनरी टाउनशिप, मथुरा के ऑफिसर्स क्‍लब बिल्‍डिंग एवं बहु उद्देशीय हॉल का अभिकल्‍प
  • सिविल एविएशन कॉम्‍पलैक्‍स, बीएचईएल, हरिद्वार
  • एल आई सी शाखा कार्यालय बिल्‍डिंग, नुरपुर (हि.प्र.) का अभिकल्‍प
  • पंचकुला (हरियाणा) स्‍थित आई ओ सी स्‍टाफ के आवास
  • आई आई पी देहरादून का अतिथि गृह, प्रशिक्षण केन्‍द्र तथा प्रयोगशाला बिल्‍डिंग का अभिकल्‍प
  • उत्‍तराखण्‍ड में पर्यटकों के लिए रास्‍ते में सुविधाएं

मुख्‍य प्रयोजित अनुसंधान एवं विकास परियोजनाएं

बिल्‍डिंग्‍स में शीशे का उपयोग

बिल्‍डिंग्‍स में शीशे के उपयोग हेतु दिशा-निर्देश

  • विभिन्‍न प्रकार के शीशों (एनील्‍ड, लैमीनेटेड, टैम्‍पर्ड, इन्‍सूलेटिंग एण्‍ड रिफ्लैक्‍टिव आदि) के उपयोग एवं गुण-स्‍वभाव
  • उपयोगकर्ता को विनिर्दिष्‍ट प्रकार के शीशे का सुलभता से चयन करने के लिए गर्म होने, ध्‍वनि प्रतिरोधकता, बचाव एवं सुरक्षा, थर्मल बेकेज, मानव प्रभाव, अग्‍नि रोधकता एवं भिन्‍न-भिन्‍न प्रकार के शीशों की शक्‍ति का डेटा
  • स्‍थलवार, भवन की ऊँचाई, शीशे के दरवाज़े के आकार एवं अवलम्‍ब की दशाओं के अनुसार वायु के दबाव के संबंध में विभिन्‍न प्रकार के शीशों की समुचित मोटाई निर्धारित करने के उपकरण
  • विभिन्‍न प्रकार के शीशे चढ़ाना यथा कर्टेन वालिग, बोल्‍टेड ग्‍लेजिंग, सस्‍पैंडेड ग्‍लेज़िंग, परम्‍परागत फ्रेम ग्‍लेज़िंग एण्‍ड फिन एण्‍ड केबल आदि
  • बिल्‍डिंग्‍स में विभन्‍न प्रकार के शीशों का उपयोग करके क्‍या करें और क्‍या नहीं ।
  • सभी 6 वायु मण्‍डलों को समाहित करने लिए भारत के सभी बड़े शहरों में शीशे के उपयोग के लिए उप नियम
  • बिल्‍डिंग्‍स में शीशे के उपयोग के लिए संहिता का निर्माण और बी आई एस, नई दिल्‍ली के समक्ष प्रस्‍तुतीकरण ।  भवनों में शीशे के उपयोग पर एक पुस्‍तक का प्रकाशन, ए बी सी पब्‍लीकेशन्‍स, नई दिल्‍ली

वहनीय लागत के गुण्‍वत्‍ता वाले आवासों के लिए औद्योगीकृत बिल्‍डिंग व्‍यवस्‍था

  • छोटी और मध्‍यम संरचनाओं के लिए पूर्वनिर्मित बिल्‍डिंग व्‍यवस्‍था पर स्‍टेट ऑफ आर्ट रिपोर्ट तैयार की गई, समूहबद्ध नियोजन और दो/तीन शयन कक्ष की इकाइयों के वास्‍तुकलानुरूप अभिकल्‍प, सर्वाधिक प्रभावी, पर्यावरण के अनुकूल और दो/तीन शयन कक्ष वाली इकाइयों के औद्योगीकृत मध्‍यम ऊँचाई के आवासों के निर्माण हेतु अभिकल्‍प  और विभिन्‍न व्‍यवस्‍थाओं का विकास

ट्रैडीशनल नॉलेज डिजिटल लायब्रेरी (टी के डी एल), भवन सामग्रियों, निर्माण प्रौद्योगिकियों एव वास्‍तुकला पर सीएसआईआर नेटवर्क परियोजना

  • नींव, दीवारों, छतो, फर्शों आदि को समाहित करते हुए भवन सामग्रियों, निर्माण प्रौद्योगिकियों और वास्‍तुकला के क्षेत्र में परम्‍परागत ज्ञान रख-रखाव, संरक्षण और धन के सृजन हेतु एक डिजिटल पुस्‍तकालय तैयार किया गया जो सम्‍पदा के सृजन और अनुसंधान एवं विकास प्रोन्‍न्‍यन हेतु संरचित डाटा तक पहॅुंच को सुलभता से उपलब्‍ध कराएगा ।

शैक्षणिक एव स्‍वास्‍थ्‍य सेवा बिल्‍डिंगस

  • शैक्षणिक एवं स्‍वास्‍थ्‍य सेवा बिल्‍डिंग्‍स पर अनुसंधान एवं विकास बिल्‍डिंग्स के बहुमुखी पहलुओं यथा नियोजन, अभिकल्‍पन, स्‍थानीय सामग्रियों और परम्‍परागत कौशल के दोहन और स्‍थानों का ईष्‍टतमीकरण, फर्नीचर एण्‍ड फिक्‍सचर्स, लागत ईष्‍टतमीकरण, पर्यावरण परिरक्षण जैसी कार्यकारी अपेक्षाओं और प्रायोगिक संरचनाओं को समाहित करता है

विकासात्‍मक परियोजनाएं – शैक्षणिक बिल्‍डिंग्‍स

विविध भू-जलवायुकीय क्षेत्रों वाले देशों में 350 नवोदय विद्यालय परिसरों का अभिकल्‍प एवं विकास

समूचे देश में नवोदय विद्यालयों के नियोजन एवं अभिकल्‍पन के लिए भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा केन्‍द्रीय भवन अनुसन्‍धान संस्‍थान को एक नोडल अभिकरण के रूप में नियुक्‍त किया गया ।

एक विशिष्ट प्रकार के नवोदय विद्यालय परिसर में कक्षा 6 से 12 तक के (प्रत्‍येक कक्षा में 40 छात्रों के 2 सेक्‍शन्‍स) 560 छात्रों के लिए कक्षाएं, छात्रावास, वार्डेन आवास, भोजनालय एवं रसोईघर, अध्‍यापकों के आवास, सड़कें, जल आपूर्ति, साफ-सफाई, विद्युतीकरण आदि की सुविधाएं होती हैं । प्रत्‍येक नवोदय विद्यालय परिसर में लगभग 8 से 10 हेक्‍टेयर भूमि पर कुल 12,000 वर्ग मीटर निर्मित क्षेत्र होता है । एक विशिष्‍ट प्रकार के स्‍कूल परिसर के लिए निम्‍नलिखित गतिविधियों सहित सीबीआरआई ने वैज्ञानिक एवं तकनीकी सहायता उपलब्‍ध कराई:

  • स्‍कूल स्‍थलों का सर्वेक्षण, मृदा की जॉंच एवं नींव अभिकल्‍प
  • विभिन्‍न बाह्य एवं आंतरिक गतिविधियों के लिए आदर्श जगह बनाना
  • व्‍यैक्‍तिक भवनों का वास्‍तुकलानुरूप अभिकल्‍पन एवं मास्‍टर नियोजन तैयार करना
  • संरचनात्‍मक विशलेषण एवं अभिकल्‍पन
  • विभिन्‍न क्षेत्रों के लिए स्‍थानीय भवन सामग्रियों और नवाचार संरचना तकनीकों का उपयोग
  • नई निर्माण तकनीकों का प्रदर्शन
  • मात्राओं एवं लागत अनुमानों का विधेयक
  • परियोजना का सम्‍पूर्ण नियोजन एवं मार्ग-दर्शन

मुख्‍य प्रायोजित अनुसंधान एवं विकास परियोजनाएं

  • प्रचालन खण्‍ड बोर्ड: एन आई ई पी ए, नई दिल्‍ली द्वारा देश के विभिन्‍न भागों में प्रायोजित विद्यमान स्‍कूल बिल्‍डिंग्‍स का अध्‍ययन
  • सर्व शिक्षा अभियान, उत्‍तराखण्‍ड
  • पॉलीटक्‍नीक परिसर, सिलवासा
  • केन्‍द्रीय विद्यालय, आई आई पी, देहरादून
  • उत्‍तर प्रदेश में 2500 प्राथमिक स्‍कूल
  • केन्‍द्रीय विद्यालय एवं एस एफ एफ स्‍कूल परिसर
  • छात्रावासों का अभिकल्‍प
  • भवन सज्‍जा हेतु विस्‍तृत विवरण एवं रसोई व स्‍नानघर के लि फिक्‍सचर्स्‍

विकासात्‍मक परियोजनाएं – स्‍वास्‍थ्‍य सेवा भवन

  • संस्‍थान में संचालित ईष्‍टतम स्‍थानों और नियोजन मार्ग-निर्देशों पर किए गए अध्‍ययनों के आधार पर उत्‍तर प्रदेश में 616 तथा कर्नाटक में 500 स्‍वास्‍थ्‍य सेवा बिल्‍डिंग्‍स की संरचना विश्‍व बैंक परियोजना के अधीन की गई
  • मणिपुर और आन्‍ध्र प्रदेश में बड़ी संख्‍या में स्‍वास्‍थ्‍य उप केन्‍द्र, प्राथमिक स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्र, उन्‍नत प्राथमिक स्‍वास्‍थ्‍य सेवा केन्‍द्रों और औषधि भण्‍डारण बिल्‍डिंग्स का निर्माण किया गया
  • मेडिकल कॉलेज कॉम्‍पलैक्‍स, हलद्वानी, उत्‍तराखण्‍ड
  • दिव्‍यांजनों की आवश्‍यकताओं और अपेक्षाओं के आधार पर बाधा-मुक्‍त विकसित परिवेश के दिशा-निर्देशों पर अभिकल्‍प, अभिकल्‍प दिशा-निर्देश तैयार किए जा रहे हैं ।.

ग्रामीण भवन एवं परिवेश

  • ग्रामीण भवनों एवं परिवेश के क्षेत्र में अनुसंधान एवं विकास कार्य किया गया जिसमें ग्रामीण आवासों, समुचित निर्माण प्रौद्योगिकियों का विकास, परम्‍परागत आवासों में सुधार, लागत प्रभावी आवास एवं अन्‍य भवन और ग्रामीण साफ-सफाई पर अध्‍ययन शामिल हैं ।  बचाव एवं पुनर्वासन और ग्रामीण विकास में संलिप्‍त विवध संगठनों को प्रशिक्षित करने के साथ चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों में आवासों की तबाही कम करना कुछ ऐसे अन्‍य क्षेत्र हैं जिनमें कार्य किया गया ।

अनुसंधान एवं विकास गतिविधियों के मुख्‍य क्षेत्र

  • गीली मिट्टी एवं छप्‍पर जैसी उपलब्‍ध स्‍थानीय सामग्रियों से निर्मित परम्‍परागत आवासों के निष्‍पादन में सुधार के लिए प्रौद्योगिकियां
  • ईंट, सीमें कंक्रीट, स्‍टील, पत्‍थर और लकड़ी जैसी टिकाऊ सामग्रियों का उपयोग करके ग्रामीण आवासों के लिए कम कीमत पर निर्माण की प्रौद्योगिकियां
  • त्रासदी (चक्रवात/बाढ़) न्‍यूनीकरण के लिए निर्माण प्रौद्योगिकियां और राहत और पुनर्वासन कार्य
  • सस्‍ती साफ-सफाई और अपशिष्‍ट जल निपटान की व्‍यवस्‍थाएं

नई निर्माण प्रौद्योगिकियां एवं बिल्‍डिंग व्‍यवस्‍थाएं

  • मिट्टी का अघटनीय प्‍लास्‍तर
  • मिट्टी की दीवारों के न्‍याधार का संरक्षण
  • अग्‍नि प्रतिरोधक छप्‍पर की छत निर्माण के उन्‍न्‍त तरीके
  • मिट्टी की दीवारों और अग्‍नि प्रतिरोधक छप्‍पर की छत के लिए फैरो सीमेंट प्‍लास्‍तर
  • बिना फ्रेम के दरवाज़ों एवं खिड़कियों के लिए फिक्‍सचर्स
  • पाद-पीठ पाइलों की बुनियाद
  • प्रीफैब ब्रिक पैनल सिस्‍टम
  • प्रीफैब कंक्रीट पैनल सिस्‍टम
  • प्रीफैब जैक-आर्क पैनल सिस्टम
  • अविभाज्‍य मोटी दीवार और कॉलम व्‍यवस्‍था
  • प्रीकास्‍ट कंक्रीट पैनल एण्‍ड ज्‍वॉइस्‍ट सिस्‍टम
  • आपदा से राहत के लिए तात्‍कालिक आश्रय
  • अन-रिइंफोर्स्‍ड पिरामिडनुमा ईंट की छत
  • विभिन्‍न भागों में निर्धन ग्रामीणों के लिए आवास

साफ-सफाई एवं परिवेशी सुधार

  • कम कीमत के शौचालय
  • ऊँचे जल स्‍तर वालें क्षेत्रों के लिए कम कीमत के शौचालय
  • अपशिष्‍ट जल निपटान व्‍यवस्‍था
  • अपशिष्‍ट जल निपटान व्‍यवस्‍था के लिए फैरो सीमेंट इकाई

मुख्‍य प्रायोजित अनुसंधान एवं विकास परियोजनाएं

  • सस्‍ती साफ-सफाई पर यू एन डी पी ग्‍लोबल परियोजना
  • कॉमनवैल्‍थ रीज़नल (एशिया/पैसिफिक) ग्रामीण प्रौद्योगिकि कार्यक्रम
  • डोम प्रकार के अचल और के वी आई सी अभिकल्‍प संयंत्रों में सुधार
  • गाजि़याबाद सुधार न्‍यास के लिए ई डब्‍ल्‍यू एस आवास
  • ई डब्‍ल्‍यू एस एण्‍ड एल आई जी आवास, नोएडा
  • गॉंधी ग्राम ग्रामीण विश्‍वविद्यालय, मदुरै, तमिल नाडु के लिए इन्‍स्टीट्यूशनल एवं अन्‍य भवनों के अभिकल्‍प
  • इंदिरा आवास योजना के लिए ग्रामीण आवास
  • आंध्र प्रदेश में चक्रवात प्रतिरोधक आवास
  • ओ एन जी सी, अंकलेश्‍वर, गुजरात के आवासीय भवनों का तापावरोधन एवं जल रोधन उपचार
  • आई ओ सी, दुर्गापुर, पश्‍चिमी बंगाल बाष्‍पीकरणीय शीतलन व्‍यवस्‍था
  • नोएडा में विद्यमान ई डब्‍ल्‍यू एस आवासों की नींव का मूल्‍यांकन एवं अभिकल्‍प
  • कम कीमत की निर्माण सामग्रियों और निर्माण प्रौद्योगिकियों तथा साफ-सफाई पर भारत के विभिन्‍न राज्‍यों के एन जी ओ को प्रशिक्षण

विकासात्‍मक परियोजनाएं – ग्रामीण भवन एवं परिवेश

  • देश के विविध भू-जलवायुकीय मण्‍डलों में इंदिरा आवास योजना के अधीन इकाई की कीमत के पुनरीक्षण पर वैज्ञानिक अध्‍ययन

विद्यमान विविध प्रकार के ग्रामीण आवासों का अध्‍ययन और गत 3 वर्षों में किए गए  परिवर्तनों को अभिलिखित करना अध्‍ययन के उद्वेश्‍यों में शामिल है ।  भू-जलवायुकीय दशाओं, मृदा के प्रकार, स्‍थानीय सामग्रियों की उपलब्‍धता और सांस्‍कृतिक कारकों के प्रतिरूप निर्माण के प्रकारों को सुझाना, लागत प्रभावी एवं पर्यावरण अनुकूल प्रौद्योगिकी की आवश्‍यकता तथा उसकी भूमिका का मूल्‍यांकन, ।  भू-जलवायुकीय दशाओं, मृदा के प्रकार, स्‍थानीय सामग्रियों की उपलब्‍धता और सांस्‍कृतिक कारकों से 20 वर्ग मीटर के न्‍याधार क्षेत्र के एक आई ए वाई आवास की एक इकाई की निर्माण लागत सुझाना । ग्रामीण आवास कार्यक्रमों को कार्यान्‍वित करने के लिए उत्‍तरदायी सरकारी कार्मिकों में उपलब्‍ध और अपेक्षित तकनीकी सामर्थ्‍य का मूल्‍यांकन करना

  • खादी बुनकरों के लिए कार्य शेड योजना – के वी आई सी, मुम्‍बई

देश के खादी बुनकरों के लिए कार्य शेडों की योजना तैयार कर ली गई है.

अधिक जानकारी के लिए सम्‍पर्क करें:

डॉ. अशोक कुमार
समूह लीडर,
वास्‍तुकला एवं नियोजन समूह
दूरभाष: +91-1332-283204
फैक्‍स:  +91-1332-272272
ई-मेल: kumarcrbri@rediffmail.com
वेबसाइट:  www.cbri.res.in